मंगलवार, 7 मार्च 2017

रविवार, 11 दिसंबर 2016

इस वर्ष का स्‍व0 गौरीशंकर कमलेश राजस्‍थानी भाषा पुरस्‍कार पूर्ण शर्मा ‘पूरण’ की पुस्‍तक ‘’मेटहु तात जनक परितापा’ को

सारस्वत सम्‍मान प्रोफेसर औंकारनाथ चतुर्वेदी, वरिष्‍ठ साहित्‍यकार श्री अरविंद सोरल और 
श्री रामेश्‍वर ‘रम्‍मू भैया’ को
तीन पुस्‍तकों राजस्‍थानी उपन्‍यास 'नुगरी', यात्रा संस्‍मरण 'ओल्‍यूँ ई ओल्‍यूँ' और 'नोटबदी चालीसा' गुटका का लोकार्पण भी 

राजस्‍थानी उपन्‍यास 'नुगरी' और संस्‍मरण 'ओल्‍यूँ ई ओल्‍यू' का विमोचन करते बायें से संचालक एवं कवि श्री रामेश्‍वर शर्मा 'रम्‍मू भैया', समारोह सचिव श्री सुरेंद्र शर्मा, संस्‍थान की निदेशिका एवं स्‍व. गौरीशंकर कमलेश की पत्‍नी श्रीमती कमला कमलेश, मुख्‍य अतिथि श्री करतार योगी, समारोह अध्‍यक्ष डा. हेमराज मीणा, 'नुगरी' के लेखक श्री जितेंद्र निर्मोही, स्‍व. गौरीशंकर राजस्‍थानी पुरस्‍कार से पुरस्‍कृत लेखक पूर्ण शर्मा 'पूरण,वरिष्‍ठ साहित्‍यकार श्री अरविंद सोरल और प्रख्‍यात व्‍यंग्‍यकार प्रोफेसर औंकारनाथ चतुर्वेदी
कोटा.  कोटा के प्रख्‍यात राजस्‍थानी साहित्‍यकार स्‍व. गौरीशंकर कमलेश की स्‍मृति में राजस्‍थानी भाषा पुरस्‍कार एवं सम्‍मान का 23वाँ संस्‍करण प्रतिवर्ष की भाँति इस वर्ष भी कोटा में इंद्रा मार्केट में उनके स्‍वनिवास पर उनके शिक्षण संस्‍थान ज्ञान भारती संस्‍थान के सभाकक्ष में 10 दिसम्‍बर को सोल्‍लास सम्‍पन्‍न हुआ. इस वर्ष का यह गौरवपूर्ण राजस्‍थानी पुरस्‍कार एवं सम्‍मान प्रख्‍यात राजस्‍थानी भाषा के साहित्‍यकार श्री पूर्ण शर्मा को उनकी पोथी ‘’मेटहु तात जनक परितापा’’ पर दिया गया. साथ ही स्‍व. गौरीशंकर कमलेश के परम मित्र प्रख्‍यात व्‍यंग्‍यकार,  शिक्षाविद्, चिंतक एवं वरिष्‍ठ साहित्‍यकार प्रोफेसर औंकारनाथ चतुर्वेदी, वरिष्‍ठ साहित्‍यकार श्री अरविंद सोरल को सारस्‍वत सम्‍मान और तीन पोथियों का विमोचन यथा कोटा के वरिष्‍ठ कथाकार श्री जितेन्‍द्र निर्मोही के राजस्‍थानी उपन्‍यास ‘नुगरी’, स्‍व. कमलेश की पत्‍नी श्रीमती कमला कमलेश की केदारनाथ यात्रा का संस्‍मरण ग्रंथ ‘’ओल्‍यूँ ई ओल्‍यूँ’’  और प्रख्‍यात आशुकवि और संचालक चालीसा रचनाओं के लेखक श्री रामेश्‍वर शर्मा रम्‍मू भैया के ‘’नोटबंदी चालीसा’’ गुटका के विमोचन समारोह का आकर्षण थे. इस समारोह के मुख्‍य अतिथि थे जयपुर के प्रसिद्ध शिक्षण संस्‍थान वसंत वैली के संस्‍थापक एवं 200 से अधिक हिंदी अंग्रेजी की पुस्‍तकों के रचयिता साहित्‍यकार डा. करतार योगी और समारोह के अध्‍यक्ष आगरा के प्रख्‍यात भाषा साहित्‍य के पोषक अंतर्राष्‍ट्रीय ख्‍याति प्राप्‍त पूर्वोत्‍तर भारत में अनेक राज्‍यों में हिन्‍दी व अन्‍य आंचलिक भाषा के उत्‍थान व उन्‍नयन व उन्‍हें संचित कर एक विश्‍वस्‍तर पर लुप्‍त होती भारतीय भाषाओं को सहेजने के लिए संकल्पित साहित्‍यकार डा. हेमराज मीणा.
दीप प्रज्‍ज्‍वलन और माँँ सरस्‍वती व स्‍व. गौरीशंकर कमलेश
के चित्र को माल्‍यार्पण करते अतिथि गण व श्रीमती कमलेश
सरस्‍वती वंदना गाते कार्यक्रम
संयोजक कवि आनंद हजारी
दोपहर 2 बजे समारोह का आरंभ अतिथियों को मंचासीन किये जाने से आरंभ हुआ. मंच पर समारोह अध्‍यक्ष डा. हेमराज मीणा, मुख्‍य अतिथि डा. करतार योगी, समारोह की निदेशक स्‍व. कमला कमलेश, सम्‍मानित होने वाले साहित्‍यकार प्रोफेसर औंकारनाथ चतुर्वेदी, श्री अरविंद सोरल, संस्‍थान के सचिव स्‍व. कमलेश के पुत्र एवं अधिवक्‍ता श्री सुरेन्‍द्र शर्मा थे और सम्‍मान समारोह के पुरस्‍कार सचिव श्री जितेन्‍द्र निर्मोही थे. कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा माँ सरस्‍वती को माल्‍यार्पण एवं दीप प्रज्‍ज्‍वलन कर किया गया. साथ ही  स्‍व. गौरीशंकर कमलेश के चित्र को भी पुष्‍पहार पहना कर किया गया. कार्यक्रम के संयोजक कोटा के जानेमाने हिंदी-राजस्‍थानी के कवि एवं व्‍यंग्‍यकार श्री आनंद हजारी ने ‘’ वीणापाणि माँ कल्‍याणी, महिमा बेदाँ ने बखाणी’’ माँ सरस्‍वती की राजस्‍थानी में वंदना कर समारोह का शुभारंभ किया. वंदना के पश्‍चात् सभी अतिथियों का माल्‍यार्पण कर स्‍वागत किया गया. इस समारोह के बारे में संस्‍थान के सचिव श्री सुरेंद्र शर्मा ने संक्षिप्‍त में जानकारी देते हुए बताया कि यह 23वाँ सम्‍मान समारोह है. उनके पिता का स्‍वप्‍न था कि राजस्‍थानी भाषा कहीं लुप्‍त न हो जाए, उसके दिनों-दिन प्रगति, उत्‍थान और इतिहास को लंबे समय तक याद रखा जाए और हाड़ौती अंचल में यह भाषा फले फूले, उनकी स्‍मृति में 1993 में उनके निधन के बाद स्‍थापित कर आरंभ किया गया. इस समारोह में कोटा व राजस्‍थान के अनेकों साहित्‍यकारों जिनमें स्‍व. शांति भारद्वाज ‘राकेश’, श्री अम्बिकादत्‍त, आदि अनेकों प्रख्‍यात साहित्‍यकार सम्‍मानित किये गये हैं.
कवि रम्‍मू भैया के गुटका 'नोटबंदी चालीसा' का विमोचन करते अतिथि
संचालन कर रहे रम्‍मू भैया ने कहा कि यह कार्यक्रम तीन सत्र में चलेगा. पहले सत्र में तीन पुस्‍तकों का लोकार्पण और उनके रचनाकारों व पुस्‍तक का परिचय, दूसरे सत्र में मुख्‍य सम्‍मान स्‍व. गौरीशंकर कमलेश राजस्‍थानी भाषा पुरस्‍कार सम्‍मान प्रदान करना एवं तीसरे सत्र में साहित्‍यकारों का सारस्‍वत सम्‍मान. इस कड़ी में पहले सत्र में साहित्‍यकार श्री जितेंद्र निर्मोही के उपन्‍यास ‘नुगरी’ का परिचय प्रोफेसर राधेश्‍याम मेहर ने दिया. उन्होंने बताया कि आज समाज में नारी आज भी संघर्ष की एक प्रतिमूर्ति है. इस उपन्‍यास में एक कमसिन नारी के शराबी आदमी के साथ विवाह, कम उम्र में विधवा हो जाने के बाद किस तरह उसने अपने जीवन में संघर्ष किया, सा‍माजिक अंधविश्‍वास, विषमताएँ, प्रताड़नाओं और गरीबी के बीच आजीविका के लिए कदम-कदम पर उसकी अस्मिता को बचाये रखने के लिए साहसपूर्ण उठाये गये कदमों के बीच नायिका ‘’लाडबाई’’ की सामाजिक परिवेश में नारी की दशा व दुर्दशा की लड़ाई का राजस्‍थानी भाषा में कलम द्वारा उकेर कर अनेकों सवाल खड़े किये हैं जिसमें आज भी स्‍त्री पुरषों के मध्‍य कमजोर व बदलते सम्‍बंधों के बारे में तथा नायिका द्वारा रूढिवादी परम्‍परा को तोड़ने के संघर्ष पर उन्‍होंने सशक्‍त और बेबाक कलम चलाई है.
'नोटबंदी चालीसा' पढ़ते हुए श्रोता कविगण व अतिथि 
कथानाक गद्यकार, निबंधकार जितेंद्र निर्मोही को राजस्‍थानी भाषा के साहित्‍यकारों यथा श्रीमतीकमला कमलेश, स्‍व. शांति भारद्वाज ‘राकेश’, श्री प्रहलाद सिंह जी, श्री अतुल कनक के क्रम में प्रथम पंक्ति में खड़ा करता है. उपन्‍यासकार ने प्रतीकात्‍मक रूप में नारी की दशा दिशा, दुर्दशा पर सार्थक अभिव्‍यक्ति की है. उन्‍होंने उपन्‍यास को स्‍व. शांति भारद्वाज ‘राकेश’ के उपन्‍यास ‘’उड़ जा रे सुवा’’ से तुलनात्‍मक वर्णन भी किया. उन्होंने अंत में बताया कि प्रख्‍यात राजस्‍थान साहित्‍य अकादमी से सम्‍मानित साहित्‍यकार श्री प्रेमजीप्रेम के उपन्‍यास ‘’सेली छाँव खजूर की‘’ से आरंभ हुई राजस्‍थानी गद्य साहित्‍य की कथा यात्रा का उत्‍तरोत्‍तर बढ़ता सशक्‍त प्रभाव यहाँ के राजस्‍थानी साहित्‍यकारों में बढ़ना एक संतोष का विषय है. श्री मेहर ने वक्‍तव्‍य हाड़ौती भाषा में पढ़ कर सुनाया. उसके बाद अतिथियों द्वारा पुस्‍तक ‘’नुगरी’’ का विमोचन किया गया. इसी क्रम में श्रीमती कमलेश के संस्‍मरण ‘‘ओल्‍यूँ ई ओल्‍यूँ’’ का विमोचन भी किया गया. यह पुस्‍तक उनके केदारनाथ तीर्थ के पर्यटन का संस्‍मरण है. तीसरी पुस्‍तक श्री रामेश्‍वर शर्मा’ रम्‍मू भैया’ के चालीसा गुटका ‘’नोटबंदी चालीसा’ का विमोचन सुंदरकांड की भाँति गा कर किया गया. सभी उपस्थित साहित्‍यकारों को गुटका वितरत की गई. छंद की प्रथम पंक्ति रम्‍मू भैया ने गाई उसी लय में दूसरी पंक्ति उपस्थित साहित्‍यकारों ने उच्‍चारण कर उनका साथ दिया. 40 छंदों की इस छोटी सी गुटका के माध्‍यम से आज पूरे देश में चल रही नोटबंदी की लहर का सभी ने
श्री पूर्णशर्मा पूर्ण को स्‍व.गौरी शंकर कमलेश राजस्‍थानी भाषा पुरस्‍कार
प्रदान करते स्‍व. गौरीशंकर कमलेश केे परिवारज
पूरा आनंद उठाया और उनकी सामयिक चालीसा रचना के लिए तालियाँ बजा कर साधुवाद दिया.
श्री पूरण का परिचय देते
श्री जितेंद्र निर्मोही
दूसरे सत्र में इस वर्ष के स्‍व. गौरीशंकर कमलेश राजस्‍थानी भाषा पुरस्‍कार एवं सम्‍मान श्री पूर्ण शर्मा को दिया गया.  श्री पूरण शर्मा का परिचय श्री जितेंद्र निर्मोही ने पढ़ कर सुनाया. हनुमागढ़ अंचल के राजस्‍थानी परिवेश में निवास कर रहे श्री पूर्ण शर्मा ने उनकी पुरस्‍कृत पुस्‍तक पर चिंतन दर्शाते हुए कहा कि वे एक प्रयोगवादी राजस्‍थानी कथाकार हैं. उनकी पुस्‍तक में आम आदमी और मजदूर वर्ग के आदमी की जिज्ञासाओं, सम सामयिक समस्‍याओं व संघर्ष को उन्‍होंने अपनी कलम से गहराई से उकेरा है, आमजन की कुंठा और पीड़ा लिखने के साथ साथ  समाज को चेतना भी प्रदान की है.  उन्‍हें स्‍व. कमलेश की पत्‍नी श्रीमती कमला कमलेश, उनके पुत्र श्री सुरेंद्र शर्मा, उनकी पुत्रवधू, पौत्र पौत्रियों व परिवार के अन्‍य सदस्‍यों द्वारा स्‍मृति चिह्न, शॉल, श्रीफल, पुष्‍पपत्र प्रदान कर सम्‍मानित किया गया.
प्रोफेसर औंकारनाथ चतुर्वेदी का
परिचय देते साहित्‍यकार  कवि
 श्री भगवत प्रसाद जादौन मंयंक
अगले सत्र में साहित्यकारों को सारस्‍वत सम्‍मान दिया गया. सर्व प्रथम प्रोफेसर औंकारनाथ चतुवे्रदी को सम्‍मानित किया गया. श्री चतुर्वेदी का परिचय साहित्‍यकार डा. अतुल चतुर्वेदी द्वारा दिया जाना था किंतु उनकी अनुपस्थिति के कारण परिचय शहर के ही प्रख्‍यात साहित्यकार काव्‍य की सभी विधाओं में निष्‍णात कवि भगवत सिंह जादौन ‘मयंक’ ने पढ़ कर सुनाया. उन्‍होंने बताया कि प्रखर वक्‍ता, व्‍यंग्‍यकार श्रीऔंकारनाथ चतुर्वेदी अपने परिवार में सभी भाई बहिनों में छठे स्‍थान पर हैं, जिस कारण उन्‍हें
प्रोफेसर औंकारनाथ चतुर्वेदी को सारस्‍वत सम्‍मान देते
 अतिथि व परिवारजन
 परिवार का रवींद्रनाथ टेगोर भी कहा जाता है, क्‍योंकि गुरू रवींद्र नाथ टेगौर भी अपने परिवार में सभी भाई बहिनों में छठे स्‍थान पर थे. संत परम्‍परा के साधक उनके पिता श्री अयोध्‍यानाथ चतुर्वेदी के परिवार में साहित्यिक प्रशासनिक स्‍तर का बाहुल्‍य रहा था, उनके सभी भाई राजपत्रित अधिकारी रहे हैं और वे स्‍वयं अध्‍यापक 
से अध्‍यापन सेवा से आरंभ हो कर व्‍याख्‍याता बने और प्रोफेसर के रूप में सेवानिवृत्‍त हुए. उनको राजकीय महाविद्यालय, कोटा के पहले पीएच.डी. प्राप्‍त करने वाले शोधार्थी का भी गौरव प्राप्‍त है. उनके अधीन 6 शोधार्थी पीएच.डी कर चुके हैं. आप प्रखर वक्‍ता, व्‍यंग्‍यकार रहे हैं. उनकों अनेक सम्‍मानों उपाधियों से नवाजा गया है. उनकी सभी व्‍यंग्‍य पुस्‍तकें यथा ‘ढाई आखर’, ‘अब दादुर वक्‍ता भये’, ‘आँखिन देखी’, ‘मेरे तो सत्‍ता गोपाल’, ‘महा ठगनी हम जानी’ आदि किसी न किसी उच्‍च स्‍तरीय साहित्यिक संस्‍थानों द्वारा पुरस्‍कृत हुई हैं. वे सफल आयोजक भी रहे हैं, स्‍व. सूर्यमल्‍ल मिश्रण शताब्‍दी स्‍मारिका और स्‍व. लज्‍जाराम मेहता स्‍मारिका व उन स्‍वतंत्रता सेनानी और साहित्‍यकार द्वय पर  उन्‍होंने
अपना वक्‍तव्‍य देते प्रोफेसर
औंकारनाथ चतुर्वेदी 
 ऐतिहासिक कार्यक्रम आयोजित किये हैं. उनका व्‍यंग्‍य निबंध ‘कबीरा ठगाइये’ और कहानी ‘माँ’ बहुत चर्चित रही है. हाल ही में हाड़ौती के प्रख्‍यात संत पीपा पर राजस्‍थान के सभी आकाशवाणी केंद्रो से 2 अक्‍टूबर 16 को एक साथ एक मात्र वार्ता प्रसारित हुई. उनकी 200 से अधिक आकाशवाणी वार्ताएँ, नाटक, आलेख आदि कोटा, जयपुर आदि आकाशवाणी से समय समयपर प्रसारित हुए हैं. अपने वक्‍तव्‍य में श्री चतुर्वेदी ने बताया कि गौरी शंकर कमलेश मेरे घनिष्‍ठ मित्र थे. उस दौर में जब हिंदी साहित्‍य सम्‍मेलन की परीक्षायें हुआ करती थी उनमें पास होने पर विशारदों और साहित्‍य रत्‍नों को राष्‍ट्रीय स्‍तर पर मान्‍यता प्राप्‍त थी. श्री कमलेश अपने थैले में उस परीक्षा के लिए फार्म रख कर हिंदी के लिए कवियों साहित्‍यकारों को प्रोत्‍साहित किया करते थे. उसी समय उनकी संस्‍थान के नाम के लिए हमने चर्चा की और विश्‍वभारती की तर्ज पर ज्ञान भारती नाम करण कर संस्‍था का मार्ग प्रशस्‍त किया था. उन्‍होंने कहा कि अच्‍छे 

साहित्‍यकार को अच्‍छा वक्‍ता होना चाहिए. जिसके लिए उन्‍होंने कहा कि इसके 
अपना वक्‍तव्‍य देते साहित्‍यकार
श्री अरविंद सोरल
लिए अध्‍ययन बहुत जरूरी है. स्‍वयं को सौभाग्‍यशाली मानते हुए उन्‍होंने कहा कि कोटा में पूरे वर्ष सभी 52 रविवारों को कभी साहित्‍य गोष्ठियाँँ, कभी समीक्षायें, कभी पुस्‍तकों का विमोचन होता रहता है. यह गौरव की बात है. उन्‍होंने स्‍व. गौरीशंकर कमलेश के परिवार को सम्‍मान के लिए आभार व्‍यक्‍त्‍ा किया. स्‍व. कमलेश के पूरे परिवार द्वारा स्‍मृति चिह्न, शॉल, श्रीफल, पुष्‍पपत्र प्रदान कर सम्‍मानित किया गया. इसी क्रम में कोटा के साहित्‍यकार अरविंद सोरल को सम्‍मानित किया गया. श्री सोरल का जीवन परिचय व साहित्यिक यात्रा का परिचय कोटा के उदीयमान कवि डा. ओम नागर ने पढ़ कर सुनाया. उनके सरल व्‍यक्तित्‍व और साहित्यिक अवदान पर चर्चा करते हुए उन्‍होंने बताया 
कि पचास वर्षीय साहित्यिक सेवा में उन्‍होंने समाज और देश की ज्‍वलंत समस्‍याओं पर कलम चलाई है और उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि अभी तक कभी भी उन्‍होंने किसी कागज या पुस्‍तक से पढ़ कर अपनी कोई रचना नहीं सुनाई, जो भी सुनाया वह उन्‍हें कंठस्‍थ है, उनहोंने कभी भी रचना पढ़ कर नहीं सुनाई. ओम नागर ने उनकी कालजयी रचना ‘खैर कोई बात नहीं’’ सुना कर वाणी को विश्राम दिया. श्री सोरल को भी श्री कमलेश परिवार और अतिथियों ने स्‍मृति चिह्न, शॉल, श्रीफल, पुष्‍पपत्र प्रदान कर सम्‍मानित किया. इसके बाद श्री रम्‍मू भैया का सम्‍मान किया गया. श्री रामेश्‍वर शर्मा ‘’रम्‍मू भैया’’  का  परिचय प्रख्‍यात कवि श्री भगवती प्रसाद गौतम ने पढ़ कर सुनाया. उन्‍होंने बताया कि आपका बाल्‍यकाल राजनीति परिवेश में गुजरा. राजस्‍थान विधान सभा के अनुभवी व कुशल विधायक हिंदी के यशस्‍वी जिला प्रमुख एवं भारत सेवक समाज के वायस चेयरमेन रहे भॅवर लालजी शर्मा के पुत्र हैं श्री रामेश्‍वर शर्मा. उनके साथ विडम्‍बना 
वरिष्‍ठ साहित्‍यकार श्री अरविंद सोरल को सम्‍मानित करते परिवारजन
श्री रम्‍मू भैया का परिचय देते कवि
श्री भगवती प्रसाद गौतम 
यह रही कि वे साइंस बॉयलॉजी के साथ स्‍नातक डिग्री लेने वाला यह रचनाकार कवि बन गया.  उन्‍हें साहित्‍य की प्रेरणा मिली प्रख्‍यात साहित्‍यविद् श्री हरिवल्‍लभ ‘हरि’ से. वे उनके गुरु भी थे और मार्गदर्शक भी. पाठशाला में बालसभा के लिए लिखी उनकी पहली रचना ‘’इक दिन मैंने सपना देखा, देखा उसमें लाल बहादुर, कूद पड़ा जो कुरुक्षेत्र में...खड़्गों पर खड्ग चलाता वह...दिखा अचानक चाऊ एन लाई....अब तो उसकी शामत आई....’’ रचना  से उनकी साहित्‍य प्रतिभा को श्री हरिवल्‍लभजी ने परखा और उनका साहित्यिक यात्रा का मार्ग प्रशस्‍त हुआ. हिंदी और हाड़ौती भाषा पर समान अधिकार से आशुकवि बन कर उन्‍होंने ‘’रम्‍मू भैया’’ बन कर लोगों का प्रेम बटोरा. उनकी चौदह काव्‍य कृतियाँ व 50 से ज्‍यादा चालीसायें प्रकाशित हो चुकी हैं. स्‍मृति चिह्न, शॉल, श्रीफल, पुष्‍पपत्र प्रदान कर स्‍व. गौरीशंकर कमलेश परिवार व अतिथियों ने उन्हें भी सम्‍मानित किया.   
वक्‍तव्‍य देते डा. करतार योगी
समारोह के तीसरे सत्र में मुख्‍य अतिथि डा. करतार सिंह योगी और अध्‍यक्षता कर रहे डा. हेमराज मीणा को सम्‍मानित किया गया. सम्‍मान से पहले उक्‍त दोनों महानुभावों का परिचय संचालन कर रहे श्री रम्‍मू भैया ने दिया. श्री करतार सिंह जी के बारे में उनहोंने बताया कि श्री करतार सिंह जी जयपुर में वंसत वैली शिक्षण संस्‍थान संचालित करते हैं, जिसमें उनके परिवार के सभी सदस्‍य राजकीय सेवा से त्‍यागपत्र दे कर जुड़े हुए हैं तथा भारतीय संस्‍कारों से ओतप्रोत गुरुकुल परम्‍परा की तरह हिंदी व अंग्रेजी माध्‍यम से बच्‍चों को संस्‍कार व शिक्षा प्रदान की जाती है. इस संस्थान में बच्चे गुडमॉर्निंग नहीं कहते बल्कि बड़ों व अतिथियों को प्रणाम करते हैं व चरण स्‍पर्श करते है. लगभग 500 छात्रों को शिक्षा प्रदान कर रहे श्री करतार सिंह जी योगी एक संत 

महात्‍मा की तरह इस उत्‍तरदायित्‍व को बखूबी निभा रहे हैं. श्री योगी 200 से अधिक हिंदी व अ्ंग्रेजी की किताबे लिख चुके हैं. डा. हेमराज मीणा का परिचय 
मुख्‍य अतिथि डा. करतार योगी को सम्‍मानित करताा परिवार 
देते हुए श्री रम्‍मू भैया ने बताया कि सपोतरा के पास एक छोटे से गाँव में निवास कर विश्‍व भाषा साहित्‍यकोष संस्‍थान को स्‍थापित करने में जुटे एक यशस्‍वी साहित्‍यकार हैं. आप राजस्‍थान के सपोतरा के समीप एक गाँव निवास कर अब हिन्‍दी व भारत की सभी आंचलिक भाषाओं का विश्‍वकोष तैयार करने में संलनग्‍न हैं. आपने अपनी राजकीय सेवा 25 वर्ष तक मध्‍यभारत, उत्‍तर भारत और पूर्वोत्‍तर भारत में रह कर 25 राज्‍यों में अपनी सेवा दी व वहाँ के आंचलिक परिवेश के अध्‍ययन के साथ आदिवासी जातियों व उनकी भाषा पर अध्‍ययन करते हुए जीवन व्‍यतीत किया और अब वे सेवानिवृत्‍त हो कर अपने गाँव में साहित्‍य की सेवा कर रहे हैं. श्री करतार ने अपने संक्षिप्‍त वक्‍तव्‍य में हाड़ौती की भाषा को समृद्ध और मीठी बताया और अपनी जीवन यात्रा का संक्षिप्‍त परिचय दिया. श्री हेमराज मीणा ने अपने विस्‍तृत वक्‍तव्‍य में जनजाति बोलियाँ, संस्‍कृति का का गहन अध्‍ययन का विशेष उल्‍लेख करते हुए अपने गृह क्षेत्र में विश्‍वहिन्‍दी कोश की स्‍थापना की चर्चा की. उन्होंने ज्ञानभारती संस्‍थान और पधारे हुए अ‍तिथियों व साहित्‍यकारों का अभिवादन किया और बताया कि कोटा के समीप इंद्रगढ़ और उसके समीप दौलतपुरा उनका ननिहाल है. इसलिए हाड़ौती का सम्‍बंध मेरा बहुत पुराना है. उनहोंन कहा कि यहाँ के साहित्‍य शिल्‍पी,
समारोह अध्‍यक्ष डा. हेमराज मीणा को सम्‍मानित करते
समारोह निदेशिका श्रीमती कमला कमलेश एवं सचिव श्री सुरेंद्र शर्मा
 साहित्‍यकर्मियों को यह ध्‍यान रखना होगा कि हम आज जिस असांस्‍कृतिक दौर से गुजर रहे हैं, सांस्‍कृतिक चेतना लुप्‍त होती जा रही है, कोटा हाड़ौती क्षेत्र में यह चेतना जाग्रत है इसके लिए कोटा का साहित्‍य समाज धन्‍यवाद का पात्र है. उन्‍होंने कहा कि सौभाग्‍य की बात है कि मैं अपने समाज का पहला प्रोफेसर हूँ. मैंने पूरा जीवन हिंदी को अर्पित कर दिया. मैं शमशेर बहादुर कवि व त्रिलोचन शास्‍त्री के साथ तीन वर्ष तक रहा, प्रख्‍यात निबंधकार श्री विद्यानिवास  का शिष्‍य रहा हूँ उन्ही के अधीन मैंने पीएच.डी की, डा. नगेंद्र, डा. विजेंद्र स्‍नातक, प्रो0 जगदीश कुमार, डा. भोलानाथ तिवारी सभी गुरुजनों की कृपा मुझ पर रही. अब मैं विश्‍व हिंदी पुस्‍तकालय की स्‍थापना में संलग्‍न हूँ, जितना भी पैसा सेवानिवृत्ति पर मुझे मिला लगभग 60 लाख इसी कार्य को समर्पित कर दिया है. केंद्रीय विश्‍व हिंदी संस्‍थान विश्‍व का पहला हिंदी संस्‍थान रहा है जिसकी विश्‍व 
वक्‍तव्‍य देते डा. हेमराज मीणा
हिंदी के क्षेत्र में तमाम राष्‍ट्रीय अंतर्राष्‍ट्रीय आयोजनों में जिसकी बहुत प्रभावशाली भूमिका रही है. मेरी अधिकतर सेवा यहाँ से बाहर ही रही है, विशेषरूप से पूर्वोत्‍तर भारत में  चाहे वह सिक्किम हो, त्रिपुरा हो, आसाम हो, मेघालय हो, चाहे मणिपुर हो, मिजोरम हो, चाहे नागालेण्‍ड हो यहाँ की सभी संस्‍थाओं और लगभग 5000 विद्यार्थियों से मैं सीधे जुड़ा हुआ हूँ. हम शीघ्र ही पूर्वोत्‍तर हिंदी साहित्‍य महोत्‍सव की तैयारी में ल गे हुए हैं.  हम कोशिश में हैं कि वह ऐसा महोत्‍सव हो कि जो लघु हिंदी विश्‍व सम्‍मेलन जैसा हो. उनहोंने बताया कि केंद्रीय हिंदी संस्‍थान राजस्‍थानी का एक शब्‍दकोश भी तैयार कर रहा है. और न केवल राजस्‍थानी का बल्कि हिन्‍दी और हिन्‍दी भाषा की 52 या 55 जनपदीय बोलियों के शब्‍दों पर शब्‍दकोश तैयार कर रहा है क्‍योंकि यह जनपदीय बोलियाँ एक एक करके नष्‍ट हो रही हैं, उसमें हाड़ौती भी है राजस्‍थान की आंचलिक बोलियाँ भी उनमें शामिल हैं. आप सब भी राजनीतिज्ञों, नेताओं, उच्‍च अधिकारियों व राज्‍य की मुख्‍य मंत्रीजी जिनका राजस्‍थान व विशेष हाड़ौती से विशेष सम्‍बंध है सशक्‍त मीडिया के माध्‍यम से यह बात पहुँचानी चाहिए कि कोटा में हाड़ौती साहित्‍य अकादमी की स्‍थापना कोटा में होनी चाहिए. जब कर्नाटक के साहित्‍यकार और कर्नाटक राज्‍य सरकार कन्‍नड़ विश्‍वकोश तैयार कर सकती है, जब आंध्रप्रदेश और तैलंगाना साहित्‍यकार व वहाँ की राज्‍य सरकार तैलगू विश्‍वकोश तैयार कर सकते हैं, जब गुजरात के साहित्‍यकार और गुजरात राज्‍य सरकार गुजराती विश्‍व कोश  तेयार कर सकती है और असम जैसे राज्‍य के साहित्‍यकार, लेखक और सरकार और असम साहित्‍य सभा 55 खंडों में असमिया विश्‍वकोश तैयार कर सकती है तो राजस्‍थान के साहित्‍यकार और राजस्‍थान सरकार राजस्‍थानी विश्‍वकोष क्‍यों तैयार नहीं कर सकती. जब तक राजस्‍थानी भाषा, साहित्‍य और संस्‍कृति का प्रामाणिक विश्‍वकोष तैयार नहीं होगा  तब तक विश्‍वस्‍तर पर
समारोह के अंत में सभी का आभार ज्ञापित करतीं समारोह व
इस ज्ञानभारती संस्‍थान की निदेशिका श्रीमती कमला कमलेश
 राजस्‍थानी को सम्‍मान, गौरव और मान्‍यता दिलाने में हमारे सामने बहुत सारी अड़चने आती रहेंगी. इस पर भी आप लोगों को विचार करना होगा. एक बहुत गंभीर बात भी आप से कह देना चाहता हूँ कि मैं लेंग्‍वेज इंस्‍टीट्यूट में काम करने वाला आदमी हूँ, मैं पिछले 25 वर्षों से जनजाति रूढि़यों, बोलियों, व संस्‍कृति पर कार्य कर रहा हूँ. 

अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर एक बहुत गहरा षडयंत्र चल रहा है, तमाम शक्तिशाली राष्‍ट्र नहीं चाहते कि संयुक्‍त राष्‍ट्रसंघ की भाषा बने हिंदी. भोजपुरी, राजस्‍थानी भाषाओं को भारतीय अष्‍टम अनुसूची में सम्मिलित किये जाने से राष्‍ट्रभाषा के लिए हिंदी इससे बहुत प्रभावित होगी. अंत में उन्‍होंने साहित्‍यकारों से उनके विश्‍व हिंदी कोश संस्‍थान से जुड़ने के लिएापित करने में जुटे एक यशस्‍वी सशस्‍वी  ाहित्‍यकोष संस्‍थान के  आग्रह किया. दोनों ने स्‍मृति चिह्न, शॉल, श्रीफल, पुष्‍प पत्र और सम्‍मान प‍त्र देकर सम्‍मानित किया गया.
कार्यक्रम का समापन ज्ञान भारती परिवार एवं मुख्‍य अतिथि व अध्‍यक्ष द्वारा जीवन व कृति परिचय देने वाले साहित्‍यकारों यथा श्री भगवत सिंह जादौन ‘मयंक’, श्री भगवती प्रसाद गौतम, डा. ओम नागर, श्री जितेंद्र निर्मोही, श्री आनंद हजारी को स्‍मृति चिह्न देकर सम्‍मानित किया गया.
कार्यक्रम में नगर के प्रख्‍यात साहित्‍यकार शायर, श्री बशीर अहमद 'मयूख', इंद्रबिहारी सक्‍सैना, श्री सी.एम. उपाध्‍याय, श्री मुकट मणिराज, श्री शिवराज श्रीवास्‍तव, शकूर अनवर, चांद शेरी, राजेंद्र पँवार, नरेंद्र चक्रवर्ती ‘मोती’, कवि सरल, हितेश व्‍यास, शहर व हाड़ौती सम्‍भाग के अनेक साहित्‍यकार शिक्षक, विद्वान् एवं विदुषियाँ उपस्थित थीं.  

अंत में समारोह की निदेशिका श्रीमती कमला कमलेश द्वारा आभार व्‍यक्‍त किया गया. समापन के बाद सभी साहित्‍यकार एक दूसरे से मिलें अपनी साहित्यिक रचनाओं का आदान-प्रदान भी किया गया. एक अल्‍पाहार का आयोजन भी रखा गया था. भी अल्‍पाहर ले कर विदा हुए.    
उपस्थित साहित्‍यकार एवं अतिथि गण. श्री बशीर अहमद मयूख, श्री इंद्रबिहार सक्‍सैना, श्री भगवती प्रसाद गौतम,  पीछे की पंक्ति में श्री मुकुट मणिराज, डा. ओम नागर, श्री सी.एम. उपाध्‍याय, श्री आनंद हजारी, श्री अनमोल, श्री शिवराज श्रीवास्‍तव, शकूर अनवर आदि 

शनिवार, 19 नवंबर 2016

ई-पत्रिका 'जय विजय' अक्‍टूबर 2016 एवं नवम्‍बर 2016 में 'आकुल'

अक्‍टूबर 2016 का जय-विजय अंक
ई पत्रिका 'जय विजय' के माह अक्‍टूबर के अंक में 'गौरैया' पर बाल गीत पृष्‍ठ 22 पर एवं नवम्‍बर 2016 के अंक में आकुल की गीतिका ''हमारे देश पर रक्षा की जब जब बात आई है। जवानों ने वतन के वास्‍ते जाँँ तक लुटाई है'' पृष्‍ठ 12 प्रकाशित हुई है। अंतिम पृष्‍ठ पर 'अहिसास' द्वारा विद्योत्‍तमा पुरस्‍कार के साथ साथ 'आकुल' की सद्य प्रकाशित पुस्‍तक 'जब से मन की नाव चली' का लोकार्पण हुआ था, उसके समाचार भी प्रकाशित हुए हैं.

शुक्रवार, 18 नवंबर 2016

जनवादी लेखक संघ के राष्‍ट्रीय एवं प्रान्‍तीय सचिव श्री राजेंद्र साईवाल नहीं रहे

जिला सम्‍मेलन में साईवाल 
उद्बोधन देते हुए
कोटा. जनवादी लेखक संघ के राजस्थान राज्य सचिव एवं केन्द्रीय सचिव आदरणीय राजेंद्र साईवाल का, कल रात अचानक ह्रदय गति रुक जाने से,निधन हो गया.वे 62 वर्ष के थे. वे जनवादी लेखक संघ से , उसकी स्थापना से ही जुड़े थे.1997 में संपन्न, जनवादी लेखक संघ के प्रांतीय सम्मलेन में उन्हें राजस्‍थान के लिए प्रांतीय सचिव चुना गया था.तबसे लगातार इसी पद पर अंतिम सांस लेने तक संगठन की सेवा में रहे.उसके कुछ ही समय बाद खुद उन्होंने जयपुर में संघ का राष्ट्रीय सम्मलेन संपन्न करवाया ,जिसमें उन्हें सर्वसम्मति से, देश भर के प्रतिनिधियों ने राष्ट्रीय सचिव चुना.दोंनों पदों का कार्यभार बड़ी कुशलता-दक्षता -प्रतिबद्धता से संभाला. कल रात अचानक, भौतिक संसार को अलविदा कहने तक. वे जयपुर में निवास करते थे. वे कार द्वारा सड़क यात्रा पर निकले हुए थे. अचानक बेचैनी और घबराहट होने पर कार रोकी गयी और देखते ही-देखते साँसें रुक गयीं. उन्होंने विद्यार्थी जीवन में स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ़ इंडिया का भी नेतृत्व किया. उनकी पत्नी कुसुम साईवाल भारत की जनवादी महिला समिति की राजस्थान राज्य सचिव हैं.अपने पीछे पत्नी-बेटी पिता को छोड़ गए हैं. बेटी शादीशुदा है. खबर मिलते ही जलेस व
 अन्य लेखकों में शोक की लहर दौड़ गयी.उपलव्ध लेखकों की ,तुरत फुरत  की गयी एक शोक सभा में उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी गयी.संघ के जिलाध्यक्ष, प्रांतीय कमिटी व् राष्ट्रीय परिषद् के सदस्य डॉ.रघुनाथ 
दिसम्‍बर 2005 में जलेस के जिला सम्‍मेलन में श्री साईवाल मध्‍य में
लिखते हुए. साथ में हैं किसान नेता श्री रवींदजी, प्रख्‍यात साहित्‍यकार
श्री विजयवर्गीय, एवं आकुल

निश्र 'सहजने उनके जीवन और कार्यों पर संछिप्त प्रकाश डाला.जलेस के कोटा जिला उपाध्यक्ष, नगर अध्यक्ष डॉ.गोपाल कृष्ण भट्ट 'आकुल', कोटा नगर सचिव नरेंद्र चक्रवर्ती,कार्यवाहक जिला सचिवकवि कपिल खंडेलवाल 'कपिलसहित कई साहित्यकारों ने उन्हेंडॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहजके निवासजो जिला कार्यालय भी हैपर एकत्र होकर भावभीनी श्रद्धांजलि दी. जानकारी के अनुसारटाकरवाडा मेंजनवादी लेखक संघ के प्रतिनिधि कवि साथी सी.एल.सांखला ने भी कुछ साहित्यकार साथियों के साथ मिलकर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी. 2005 में संपन्नजनवादी लेखक संघ केकोटा जिला सम्मलेन कोराज्य आब्जर्वर -मुख्य अतिथि के रूप में दिशा निर्देश व मार्गदर्शन यादगार उद्बोधन देते हुएसाथी राजेंद्र साईबालजिनकी अब यादें ही शेष हैं लेकिन अशेष होते हुए भी हमारे प्रिय साथी हमेशा हमारे हृदयों में मौजूद रहेंगे. 

मंगलवार, 15 नवंबर 2016

स्‍व. लज्‍जाराम मेहता समारोह सम्‍पन्‍न

 पहला स्‍व. लज्‍जाराम मेहता स्‍मृति पुरस्‍कार श्री ‘मयूख’ को. पं0 लज्‍जाराम पर श्रीमती संतोष नागर की लिखी पुस्‍तक का भी लोकार्पण.
समारोह में डा0 संतोष नागर की पुस्‍तक का विमोचन करते अतिथि बायें से संयोजक डा. अतुल चतुर्वेदी, कोटा वि.वि. के 
पत्रकारिता विभाग के ऐसोसिएट प्रो0 सुबोध अग्निहोत्रि, अध्‍यक्ष समारोह श्री कैलाश चंद्र सर्राफ, मुख्‍य अतिथि सम्‍भागीय आयुक्‍त 
श्री रघुवीर सिंह मीणा, लेखिका डा. संतोष नागर, पं; लज्‍जाराम मेहता स्‍मृति सम्‍मान पाने वाले श्री बशीर अहमद 'मयूख' और 
समारेाह आयोजक डा. औंकारनाथ चतुर्वेदी
 कोटा. नेहरू जयंति 14 नवम्‍बर को शहर के प्रख्‍यात रोटरी संस्‍थान द्वारा प्रायोजित बूँदी के प्रख्‍यात साहित्‍यकार पत्रकार स्‍व. लज्‍जाराम मेहता स्‍मृति सम्‍मान समारोह दोपहर तीन बजे कोटा बूँदी के प्रख्‍यात साहित्‍यकारों विद्वानों के साक्ष्‍य में आरंभ हुआ. इस कार्यक्रम के अध्‍यक्ष मंडल में थे शहर के जाने माने श्रेष्ठि श्री कैलाश चंद्र सर्राफ, अध्‍यक्ष, समारोह के मुख्‍य अतिथि सम्‍भागीय आयुक्‍त श्री रघुवीर सिंह मीणा, कोटा विश्‍वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के एसोएिट प्रोफेसर डा0 सुबोध अग्निहोत्रि, स्‍व. लज्‍जाराम मेहता पर लिखी पुस्‍तक की लेखिका श्रीमती संतोष नागर,  पहले स्‍व. लज्‍जाराम मेहता स्‍मृति सम्‍मान प्राप्‍त करने वाले कोटा के साहित्‍य रत्‍न श्री बशीर मोहम्‍मद ‘मयूख’ और प्रख्‍यात साहित्‍यकार जिन्‍होंने इस कार्यक्रम को आयोजित करवाया वे डा0 औंकारनाथ चतुर्वेदी थे. 
समारोह का शुभारंभ सरस्‍वती पूजन और
दीप प्रज्‍ज्‍वलन करते संभागीय आयुक्‍त
सर्वप्रथम मंच संचालक एवं संयोजक साहित्यकार डा0 अतुल चतुर्वेदी ने सभी अतिथियों को मंच पर आमंत्रित किया. सभी के मंचासीन होने के पश्चात् समारोह का आरंभ सरस्‍वती पूजन और दीप प्रज्‍ज्‍वलन के साथ आरंभ हुआ. सभी मंचासीन अतिथियों ने सरस्‍वती पूजन कर दीप प्रज्‍ज्‍वलित किया. कोटा आकाशवाणी की उद्घोषक एवं गायिका श्रीमती तृषा झा द्वारा सरस्‍वती वंदना की गई- ‘जय जय हे भगवती सुर भारती तव प्रणमाम:, नाद ब्रह्म मयी जय वागेश्‍वरी शरणं ते गच्‍छाम:।’
सरस्‍वती वंदना के पश्‍चात् श्री औंकारनाथ चतुर्वेदी एवं अन्‍य वरिष्‍ठ साहित्‍यकारों ने सभी मंचासीन अतिथियों को माला पहना कर स्‍वागत एवं अभिनंदन किया. संयोजक श्री अतुल चतुर्वेदी ने कहा कि हिन्‍दी की यात्रा जो 18वीं शताब्‍दी से गद्य लेखन की परम्‍परा विधिवत् रूप से शुरू हुई जिसके आदि प्रवर्तक के रूप में भारतेंदु हरिश्‍चंद्र को हम अच्‍छी तरह जानते हैं, उस परम्‍परा, गद्य लेखन की शृंखला को आगे बढ़ाने में देवकीनंदन खत्री के साथ-साथ उस समय अगर किसी उपन्‍यासकार ने अपना महत्‍वपूर्ण योगदान दिया उनमें स्‍व. लज्‍जाराम मेहता का नाम सर्वप्रथम है. आचार्य रामचरण शुक्‍ल ने अपने प्रमुख ग्रंथ 'हिन्‍दी साहित्‍य का इतिहास' में उनका महत्‍वपूर्ण उल्‍लेख किया है, बाद में कालांतर में पत्रकारिता पर पुस्‍तकें आईं, चाहे वे वेदप्रताप वैदिक की पुस्‍तक रही हो या आलोक मेहता की पुस्‍तक या अन्‍य दूसरे पत्रकार की जिन्‍होंने पत्रकारिता पर पुस्‍तक लिखीं हैं, लज्‍जाराम मेहता का उल्‍लेख पत्रकार के रूप में अवश्‍य किया है. अपने जीवन काल में उन्‍होंने अनेक उपन्‍यासों की रचना की, इतिहास के महत्‍वपूर्ण ग्रंथों की रचना उन्होंने की, उस समय के ‘सर्वप्रिय’ अखबार का सम्‍पादन उन्‍होंने किया, और तमाम साहित्यिक और साहित्‍येतर जुड़ी हुई गतिविधियाँ हैं, उनमें वे संलग्‍न रहे, यह अलग बात है कि आगे उनके साहित्यिक व पत्रकारिता के योगदान को इतिहास में बहुत ज्‍यादा रेखांकित नहीं किया गया, इसलिए हमारे डा0 साहब का तो स्‍टाइल ही यही है कि जिन्‍हें कोई रेखांकित नहीं करता उनका बीड़ा वे उठा लेते हैं, आपको स्‍मरण होगा कि आपने कुछ दशक पूर्व बूँदी के ही सूर्यमल्‍ल मिश्रण पर भी उन्होंने बहुत बड़ा कार्यक्रम सम्‍पन्‍न करवाया था, जिसमें देश के ख्‍यातनाम साहित्‍यकार रामधारी सिंह दिनकर, सोहनलाल द्विवेदी उपस्थित हुए थे और पिछले कई वर्षों से उन पर एक डाक टिकिट भी जारी करवाया जाना था, किंतु राज बदला तख्‍त बदला और वह कार्य अधूरा रह गया.  उसी शृंखला में वे प्रयासरत रहे हैं. स्‍व0 लज्‍जाराम पर भी डाक टिकिट जारी करवाने का कार्य अभी पाइप लाइन में हैं, यह प्रोजेक्‍ट माननीय संभागीय आयुक्‍त के साथ वार्ता कर पुन: आरंभ किया गया है. डा. अतुल ने कहा कि पिछले दिनों डा0 उषा झा ने उन्‍हें श्रीमती संतोष नागर की पुस्‍तक जो ''स्‍व. लज्‍जाराम जी की आपबीती'' उन्‍होंने पढ़ने को मिली उसे पढ़ कर महूसूस हुआ कि उन दिनों कितना संघर्ष किया जाता था, एक जगह वे लिखते हैं कि एक बार माउंट आबू में थे वे रोज 1500 फुलस्‍केप कागज लिखडाले थे, या तो मैंने ओशो आचार्य रजनीश के बारे में पढ़ा है कि वे 2100 पृष्‍ठ रोज पढ़ा करते थे, तब 1 घंटे का उद्बोधन दिया करते थे. मेरे कहने का तात्‍पर्य है कि पहले कितना पढ़ता-लिखना पड़ता था, जब आज की तरह कम्‍प्‍यूटर, टाइपराइटर आदि जैसी सुविधायें नहीं थीं. वे दो दो तीन तीन उपन्‍यासों को एक साथ लिखा करते थे, सभी मूल लेखक के भाव थे, कहीं से कोई भाव या विषय हरण नहीं किया लिए हुए नहीं थे. डा0 अतुल ने इस समूचे कार्यक्रम का क्‍या उद्देश्‍य रहा है, क्‍या निमित्‍त रहा है इसके पीछे, हम क्‍या चाहते हैं इस कार्यक्रम के माध्‍यम से, इसे रेखांकित करने के लिए और विषय प्रवर्तन के साथ साथ सम्‍माननीय अतिथियों के स्‍वागत के लिए भी दो शब्‍द  कहने के लिए भी डा. औंकारनाथ चतुर्वेदी को आमंत्रित किया.
विषय प्रवर्तन के अंतर्गत समारोह के औचित्‍य पर 
व्‍याख्‍यान देतेे समारोह के आयोजक डा0 औंकारनाथ चतुर्वेदी
डा0 औंकारनाथ चतुर्वेदी ने कहा कि यह तपोभूमि है जहाँ आप बैठे हैं, यह वह कोटा है जहाँ बनारस से चल कर गागरोन तक चल कर संत रामानंद ने अपने चालीस शिष्‍यों के साथ यात्रा की थी, पिछले दिनों जब मैंने सूर्यमल्‍ल्‍ा मिश्रण पर कार्यक्रम करवाया था, तब बताया था कि स्‍वतंत्रता आंदोलन के समय बूँदी का वह पेड़ जिसके नीचे स्‍वतंत्रता आंदोलन के दिनों लाशों के ढेर लगे रहते थे, जिसका आज भी साक्षी है बूँदी का वह पेड़, तांत्‍या टोपे बूँदी और कोटा से निकला था, उन दिनों, सूर्यमल्‍ल ने उन सबको देखा, उस समय उनके सिवा कोई भी इतिहासकार, कोई भी राजघराना ईस्‍ट इंडिया कं. के खिलाफ कोई भी एक शब्‍द नहीं लिख सका था, लिखा भी तो तकिए के नीचे दबाए रखा, केवल सूर्यमल्‍ल मिश्रण मुखर रहा. जिसको हम स्‍वतंत्रता का प्रथम आंदोलन कहते हैं, वह पराजय या पराभव का इतिहास नहीं है, आज जो हम जो भी कर रहे हैं, कुछ भी बना रहे हैं, इस भारत को सम्‍पूर्ण करने का इस देश को बनाने का एकजुट करने का यदि श्रेय जाता है तो वह हिन्‍दी साहित्‍यकारों और पत्रकारों को. जिन्होंने अपने घर बेचे, अपनी सुविधायें बेचीं, अपनी सघन दरिद्रता को वहन करते हुए हिन्‍दी को महान् बनाने की कोशिश की. 1857 की क्रांति के बाद हम रुके नहीं, हम टूटे नहीं, बिखरे नहीं, 647 रियासतों को एक करने का दायित्‍व लिए, आप सोचिए, किस तरह इस देश को महान् बनाया, देश की जनता ने, अपना सबकुछ त्‍यागते हुए, फाँसी के फंदों पर झूलते हुए, उस जमाने में जब फारसी राजभाषा थी, ईस्‍ट इंडिया का शासन था, सेंट जार्ज में हिंदी पढ़ाने के लिए बिल क्राइस्‍ट लल्‍लू लाल सदन मिश्र को आमंत्रित कर रहे थे, देवकीनंदन खत्री ने हिन्‍दी को जगाने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई थी, उनके तिलिस्‍मी उपन्‍यासों चंद्रकांता, चंद्रकांता संतति, भूतनाथ ने दे भारत में हिंदी की अभिरुचि ही नहीं जगाई बल्कि उसके आगे बढ़ाया और एक वर्ग खड़ा कर दिया, नहीं तो भारत में राजनैतिक नेतृत्‍व था ही कहाँ, ऐसे समय में उदय हुआ लज्‍जा राम मेहता का, नहीं तो यह देश तिलिस्‍म और जादूगरी, फेंटेसी में खो रहा था. लज्‍जा राम को लगा कि यह देश कहीं गलत दिशा में जा रहा है. एक ऐसा व्‍यक्ति जिसकी मातृभाषा हिन्‍दी नहीं, वे गुजराती थे, देश में राजभाषा फारसी थी, उन्‍होंने बूँदी में रह कर 'सर्वहित' नाम का अखबार दस वर्षों तक निकाला और हिन्‍दी की चेतना जगाई. इसलिए सर्वप्रथम इन पत्रकारों को नमन करना होगा, जिन्होंने इस देश को महान् बनाया. सात्विक लज्‍जाराम उन दिनों बूँदी से कोटा पैदल आते थे, नल का पानी नहीं पीते थे, कुँए से पानी निकालते थे, मुंबई में भी उन्‍होंने अपनी सात्विकता को बचाये रखा, वे उज्‍जैन गये जहाँ उन दिनों शिप्रा नदी के किनारे श्रीकृष्‍णदास धर्मशाला जहाँ उस समय का प्रख्‍यात वैंकटेश्‍वर समाचार पत्र चलाया था, प्रेस चला करती थी, उस समय गीताप्रेस गोरखपुर नहीं थी. इसके पहले सम्‍पूर्ण भारत की धार्मिक पुस्‍तकें, पत्रकारों के लेख यहीं छपा करतेे थे, पुस्‍तकें, उपन्‍यास छपा करती थीं, लज्‍जाराम यहाँ आकर सम्‍पादक बन गये. प्रख्‍यात उपन्‍यासकार यशपाल जिन्‍होंने ‘सिंहावलोकन’ पुस्‍तक लिखी थी, जिसमें उन्‍होंने स्‍वतंत्रता आंदोलन के सभी क्रांतिकारियों के बारे में लिखा है, उसमें उन्‍होंने  भगत सिंह के बारे में लिखा था कि वे लाहौर जेल में वैंकटेश्‍वर समाचार पत्र के एक पन्‍ने को बिछाते थे और एक को ओढ़ते थे, कितना बड़ा समाचार पत्र था वह उस समय का. ऐसे प्रेस में काम करते हुए उन्‍होंने कई उपन्‍यास लिखे, वे इतने प्रख्‍यात हुए कि नागरी प्रचारणी सभा के श्‍यामसुंदरदास को उनके उपन्‍यास से वहाँ से बनारस मँगवाना पड़ा. अश्रुमती एक उपन्‍यास था और एक था चित्तौड़ चाँद जिसमें इतिहास पर लिखी गई अश्‍लील टिप्‍पणी के कारण लज्‍जाराम ने एक आंदोलन छेड़ा और उन सभी प्रतियों को बनारस में गंगा में बहाना पड़ा, ऐसी होती है पत्रकारिता, यह है हमारे देश की नैतिकता, साहित्‍य का मार्गदर्शन. यह सब बातें मैं इसलिए बता रहा हूँ कि 1920 के बाद के लड़ी गई भारत की स्‍वतंत्रता आंदोलन की लड़ाई और 1947 के बाद के माहौल जिसने हिंदी पत्रकारों, हिन्‍दी साहित्‍य और साहित्‍यकारों को हाशिये पर टॉंग दिया. आज राजतंत्र ने सामंततंत्र स्‍थापित कर दिया है, ये सर्वेसर्वा सामर्थ्‍यवान राजनेता बन गये हैं और लोभ और लालच के कारण सारी सुखसुविधा वे भोग रहे हैं और साहित्‍यकार, पत्रकार, वही दरिद्रावस्‍था में हैं. उन्‍होंने कहा कि हर देशकाल की एक अनिवार्यता होती है, मेरे समय के साहित्‍यकार, मेरे साथी जानते होंगे कि 1962 की स्थिति क्‍या हो गयी थी, जब चीन ने आक्रमण किया था और कुछ दिन बाद 1965 में पाकिस्‍तान से युद्ध हुआ, तत्‍कालीन प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्‍त्री ने देश की अस्मिता को बचा तो लिया किंतु उसकी कीमत ताशकंद समझौते में उन्‍हें अपनी जान दे कर चुकानी पड़ी. राजस्‍थान की संस्‍कृति के बारे में बताते हुए उन्‍होंने कहा कि यहाँ की वीर माताओं ने रणबाँकुरों को जन्‍म ही नहीं दिया अपनी अस्मिता बचाने के लिए प्राण तक न्‍योछावर किये हैं. यही किया लज्‍जाराम ने, तिलिस्म और जादूगरी का मोह खत्‍म करने के लिए हिन्‍दी प‍त्रकारिता की अलख जगाई और देश को एकत्रित कर चेतना जगाई अन्‍यथा देश कल्‍पना लोक में खो जाता. बूँदी में उस समय 7 लाख किताबें लाइब्रेरी में थीं. छोटा काशी कहलाता था बूँदी, संस्‍कृत की बड़ी पीठ थी, सूर्यमल्‍ल मिश्रण और लज्‍जराम जैसे साहित्‍यकार पत्रकारों की भूमि बूँदी आज बहुत ही विषाद में जी रही है. मैंने अपना कर्तव्‍य निभाया, मैंने दो महापुरुषों का सेटेलाइट पर रख कर ऊपर पहुँचा दिया, मैं उऋण हुआ अपने जन्‍म से. अब आज के कोटा युवा साहित्‍यकारों, ओम नागर, रामेश्‍वर प्रकाश रम्‍मू भैया, अतुल चतुर्वेदी और पत्रकारों को अब यह दायित्‍व भावी पीढ़ी को सौंपता हूँ, पर याद रखना समाज का मार्गदर्शन सिर्फ साहित्‍यकार ही करेगा, समाज को उन लोगों से बचा के रखना है, उन मतलबियों से जिन्होंने राजतंत्र को सामंततंत्र बना डाला है, लोकतंंत्र की गरिमा को सँभालना होगा, जो केवल साहित्‍यकार ही कर सकता है, पत्रकार ही कर सकता है.   भाई, खुशामदों से जिन्‍दगी चलती नहीं है.
समारोह संचालक डा. अतुल चतुर्वेदी
उनके अभिभाषण के बाद डाा0 अतुल चतुर्वेदी ने बताया कि किस तरह साहित्‍य और राजनीति में अर्थतंत्र हावी हो रहा है. उन्‍होंने चार पंक्तियाँँ बोलते हुए कार्यक्रम को आगे बढ़ाया- ‘देखते जाइये कैसे हैं जमाने वाले. खुद ही तापने बैठ गये, आग लगाने वाले. फासला सदियों का लम्‍हों में तय हो जाता, दिल मिला लेते अगर, हाथ मिलाने वाले.’ उन्‍होंने कहा कि दिल मिलाने का काम  कला साहित्‍य और संस्‍कृति ही करती है, शेष सभी बाँटन का काम करते हैं, राजनीति बाँटने का काम करती है, लेकिन साहित्‍य दिलों से दिलों को जोड़ने का काम करता है. पुस्‍तक की लेखिका श्रीमती संतोष नागर जी का परिचय देने के लिए उन्‍होंने प्राध्‍यापक डा. ऊषा झा को आमंत्रित किया. 
पं0 लज्‍जाराम मेहता पर लिखी पुस्‍तक
की लेखिका संतोष नागर का परिचय
देती प्राध्‍यापिका डा0 उषा झा
श्रीमती उषा झा ने श्रीमती संतोष नागर के परिचय काेे इस प्रकार आरंभ करते हुए कहा कि जीवन के प्रश्‍नों का उत्‍तर देने की क्षमता जिसमें भी हो वही प्रतिभाशाली कहलाता है, क्‍योंकि हमारे जीवन में नित नई चुनौतियाँ नित नये प्रश्‍न अवतरित होते रहते हैं, और जो व्‍यक्ति उनका जितना सटीक, सकारात्‍मक, सृजनात्‍मक, सक्षम, उत्‍तर दे सकता है, वह व्‍यक्ति उतना ही प्रतिभाशाली होता है. यानि प्रतिभासम्‍प्‍नन व्‍यक्त्‍िा की परिभाषा यह है कि वह अंतर्दृष्टि सम्‍पन्‍न, दूरदर्शी, विवेकशीलता की प्रवृत्ति को अपना कर जीवन में, सभी समस्‍याओं के सार्थक हल ढूँढ़ने में अपने आप को सफल पाता हो, वही प्रतिभा सम्‍पन्‍न है. जिन्‍होंने पं. लज्‍जाराम मेहता और उनके उपन्‍यास पर अपने शोध को तूलिका दे कर अपने इस साहि‍त्‍याकाश को इस समरोह को आलोकित किया है वो अपने जीवन में किये संघर्ष करते हुए अपनी रचनात्‍मक प्रतिभा को कोटा के साहित्‍य जगत् के समक्ष रखा है, ऐसी लेखिका श्रीमती नागर को मैं साधुवाद देती हूँ. उन्‍होंने उनका परिचय देते हुए कहा कि आपका जन्‍म कोटा के समीप सुल्‍तानपुर में शिक्षक परिवार में हुआ. जिनके साहित्यिक संस्‍कार और माँ से प्राप्‍त ज्ञान को शिरोधार्य किया है. माँ, को जिन्‍हें उन्‍होंने अपनी पुस्‍तक में बूँदी का जीताजागता इतिहास बताया है. ऐसी ममतामयी संरक्षण में आपका पालन-पोषण हुआ. आपने कोटा राज. महाविद्यालय से संस्‍कृत से प्रथम श्रेणी में स्‍नातकोत्‍तर की डिग्री प्राप्‍त कर अपने उज्‍ज्‍वल भविष्‍य का शुभारंभ किया. आपने अपने प्राक्‍कथन में लिखा है कि बेटी को पराया धन समझ कर प्रत्‍येक माता-पिता उसे वयस्‍क होने से पूर्व ही  उसके वृत्‍त को छोटा करने में प्रयासरत रहते हैं, इसी प्रयास में उसे एक दिन रंगमंच पर उतर कर समाज एवं शास्‍त्र सम्‍मत बेड़ी अपने पाँव में डालनी पड़ती है. कुछ बेटियाँ बहुत भाग्‍यशाली होती हैं, जिन्‍हें पराये और अपने घर में विशेष अंतर नहीं दिखाई पड़ता, किन्‍तु कुछ ऐसी अभागी बेटिया होती हैं, जिनकी स्‍वतंत्रता केवल घर की देहरी तक ही सीमित रह जाती है और उनकी दिनचर्या पर प्रतिबंध लग जाते हैं, आप उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त कर शोध कार्य में जुट जाना चाहती थीं, लेकिन मनुष्‍य का सोच कभी नहीं होता जैसा कि कमलिनी क्रोड़ में छिपा भ्रमर सुबह होने पर आजाद होना चाहता है किंतु हाथी उस कमल को तोड़ लेता है. कुछ ऐसा ही भूचाल इनके जीवन में आया और जीवन की दिशा बदल गई. विवाह के चार वर्ष बाद ही इनकी गोद में 10 माह का शिशु दे कर इनके पति इन्‍हें छोड़ कर परलोक सिधार गये. सतत संघर्ष और जटिलताओं के दलदल में फँसे रह कर आपकी दृष्टि सदा सितारों पर टिकी रही. इसलिए जीवन से हार न मान कर अपने अदम्‍य साहस, जीवट एवं स्‍वयं के आगे बढ़ने के साथ साथ अपने बेटे को भी अच्‍छे संस्‍कार व शिक्षा देने की इच्‍छा शक्ति ने आपको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया. 1977 में बैंक ऑफ इंडिया में लिपिक के पद पर कार्य करते हुए बैंक के कार्य के साथ साथ बी.कॉम, सी.ए. व आई.आई.ए. बैंकिंग परीक्षा एवं शोध कार्य साथ साथ करते हुए आप पहले बैंक की अधिकारी बनी और बाद में मेनेजर के पद से सेवानिवृत्‍त हुईं. एक स्‍त्री के लिए उतार चढ़ावों के मध्‍य चट्टान की तरह अडिग रहते हुए अपने पुत्र को इंजीनियरिंग की शिक्षा दिलवाई, जो आज भारतीय दूर संचार निगम में जेटीओ के पद पर कार्यरत हैं. आपने सौराष्‍ट्र गुजरात विश्‍वविद्यालयसे डा0 नीलू कोटक के निर्देशन में शोध पूर्ण किया और पं0 श्री लज्‍जाराम मेहता के अलोचनात्‍मक उपन्‍यास को अपने शोध के रूप में प्रकाशित करवा कर साहित्‍य के क्षेत्र में अभिवृद्धि की. अपने निकट आत्‍मीय रिश्‍तेदार होने के नाते आपको पं0 मेहताजी की व्‍यक्तित्‍व एवं कृतित्‍व सम्‍बंधी सामग्री बूँदी में सहज ही उपलब्‍ध हो गई. एक ऐसे साहित्‍यकार, सम्‍पादक, पत्रकार, कथाकार, जो अभी तक प्रकाश में नहीं आये थे जिन्‍होंने सर्वहित वैंकटेश्‍वर समाचार पत्र का सम्‍पादन किया, भाषा एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में जिनका अप्रतिम योगदान था, कुछ अंश उन्‍होंने प्रेमचंदजी के उपन्‍यास और कथा साहित्‍य के लिए भी तैयार किये थे. ऐसे सक्षम व्‍यक्तित्‍व बूँदी के और वे नागर समाज के प्रतिनिधि उनका व्‍यक्त्त्वि और कृतित्‍व सामने लाने में अपना महत्‍वपूर्ण योगदान दिया. रचनाकार अपनी पहली कृति में ही अपनी शाब्दिक अमरता पा लेता है. आज वे हमारे बीच नहीं है, लेकिन आज वो हम सब के हृदय में मौजूद हैं उन पर श्री औंकारनाथजी ने यह कार्यक्रम रखा, वे काफी समय से मुझसे वार्ता कर रहे थे कि श्री लज्‍जारामजी पर एक कार्यक्रम करवाना है, उनका व्‍यक्तित्‍व प्रकाश में आए, उन पर शोध हो, उन पर बात आगे बढ़े, उनकी भाषा पर बात आगे बढ़े, उस समय इतनी विकसित खड़ी बोली थी कि किसी भी अन्‍य भाषा का उस पर प्रभाव नहीं था.
पुस्‍तक का परिचय देती लेखिका
डा. संतोष नागर 
इसी क्रम में श्रीमती संतोष नागर जी को पुस्‍तक केे लोकार्पण से पूर्व अपने व्‍याख्‍यान के लिए डा. अतुल ने बुलाया. उन्‍होने अपनी पुस्‍तक के बारे में संक्षिप्‍त में बताया कि कितने संघर्षों में श्री लज्‍जाराम जी ने अपना जीवन व्‍यतीत किया. अनेक भाई बहिनों का जन्‍म हो कर मर जाने से वंशवृद्धि की अंतिम आशा में उनका जन्‍म हुआ और उन्‍होंने वंश की लाज रखी इसलिए उनका नाम लज्‍जा राम रखा गया. आरंभ से ही उन्‍हें हिन्‍दी समाचार पढ़ने का शौक था, तब उन्‍हें जिज्ञासा हुई कि बूँदी से भी एक समाचार पत्र निकाला जाए ताकि बून्‍दी वालेे हिन्‍दी पढ़ने को प्रवृत्‍त हों. उन्होने 1890 में वहाँ पाठशाला के खर्च से गुंजाइश निकाल कर पाक्षिक पत्र ‘सर्वहित’ आरंभ किया जो दस वर्ष तक चला. उसमें न तो राजनीति खबरें होती थीं और न ही बून्‍दी की भली बुरी खबरें दी जाती थीं. पत्र बहुत होनहार था और बाहर और राज्‍य में इसके ग्राहक बढ़ने लगे थे. मूल्‍य इसका राज्‍य में दस आना और डाक द्वारा 1 रुपया था. इसके प्रभाव से ‘सर्वहित’ पत्र में किसी लेख पर झूठे आरोप लगा कर शिक्षा विभाग और रंगनाथ प्रेस को प्रतिबंधित कर दिया गया. इस प्रकार श्री लज्‍जाराम जी का मुंबई जाने का मार्ग प्रशस्‍त हुआ. उनकी निष्‍पक्षता और सात्विकता, सत्‍यनिष्‍ठा से उन्‍हें मुंबई के ज्ञानसागर प्रेस के स्‍वामी पंडित किशन लालजी तक पहुँचा दिया. उन्‍होंने बताया कि श्री लज्‍जाराम जी प्रणीत 24 पुस्‍तकों में से 22 की जानकारी नागरी प्राचरणी सभा काशी (बनारस) के सौजन्‍य से प्राप्‍त हुईं. तीन पुस्‍तकें राजस्‍थान प्रेस से, 15 श्री वैंकटेश्‍वर प्रेस उज्‍जैन से प्रकाशित हुईं, एक प्रारिणी सभा द्वारा प्रकाशित करवायी गयीं तथा एक काशी नगरी से प्रकाशित हुई. एक पुस्‍तक अमुद्रित थी, शेष को दीमक चाट गयी थी.
अपरिहार्य कारणों से प्रशासनिक बैठक में उपस्थित होने के लिए जाने से पूर्व बीच में ही सम्‍भागीय आयुक्‍त श्री रघुवीर सिंह मीणा एवं अन्‍य मंचासीन अतिथियों के करकमलों से श्रीमती संतोष नागर की पुस्‍तक ‘पं0 लज्‍जाराम मेहता एवं उनकी आपबीती’’ का लोकार्पण किया गया. श्री मीणा ने अपने संक्षिप्‍त भाषण में कहा कि मैं अनेकों जिलों में अपने प्रशासनिक पदों पर रहा हूँ, वहाँ इक्‍के दुक्‍के साहित्‍यकारों व साहित्यिक कार्यक्रमों में उठ बैठ हुई है, किन्‍तु कोटा जैसा साहित्‍य वैभव उन्‍होंने कहीं नहीं देखा, यहाँ साहित्‍यकारों का भण्‍डार है, मानो यहाँ साहित्‍य की सरिता बहती है.  उन्‍होंने बताया कि साहित्‍य हमारे  इतिहास की धरोहर हैं, बूँदी के इन दो महापुरुषों के लिए श्री औंकारनाथजी ने जो आयोजन किये हैं वे सराहनीय हैं, उनके प्रोजेक्‍ट पर हम कार्य कर रहे हैं, शीघ्र ही प्रशासनिक स्‍तर पर इसे प्रभावशाली तरीके से निर्णय लिया जाएगा और शीघ्र ही इसमें सफलता मिलेगी, ऐसी आशा है. जाने से पूर्व श्री मीणा का श्री औंकारनाथजी चतुर्वेदी द्वारा शॉल, श्रीफल दे कर सम्‍मानित किया गया.
कोटा वि.वि. के पत्रकारिता विभाग के एसो. प्रो0 सुबोध अग्निहोत्रि
को सम्‍मानित करते अतिथि बायें से डा. औंकारनाथ चतुर्वेदी,
डा. अग्निहोत्रि, श्री मयूख, श्री सर्राफ, डा. नागर, डा. ऊषा झा 
कार्यक्रम की अगली कड़ी के रूप में कोटा विश्‍वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत डा0 सुबोध अग्निहोत्रि का का व्‍याख्‍यान हुआ. उनहोंने स्‍वतंत्रता आंदोलन से आज तक के पत्रकारिता के कालखंड को दो भागों में बाँट कर उसे परिभाषित किया और बताया कि किस तरह आज की हिन्‍दी पत्रकारिता उस समय से भिन्‍न थी. पहले पत्रकारिता और साहित्‍य का सीधा सम्‍बंध था लेकिन आज विद्वत्‍ता या दूसरे शब्‍दों में कहिए विषय विशेषज्ञ विशेष कर हिन्‍दी विशेषज्ञ की बहुत कमी है. आज पत्रकार भी तीन खेमों में बँटा हुआ है. सबसे निचले स्‍तर का पत्रकार बंधुआ मजदूर की तरह काम करता है, बीच का ऊपरी तंत्र से सामंजस्‍य बैठा कर कार्य करता है और सर्वोच्‍च आसीन पत्रकार जो आज ‘सीओई’ जैसे पदों पर आसीन हैं, जो पूरी तरह से अंग्रेजी में बोलते हैं, लिखते हैं, हिन्‍दी नहीं जानते, बस अंग्रेजी से हिन्‍दी में अनुवाद कर हिन्‍दी समाचारों को रिव्‍यू किया जाता है. आज भी हिन्‍दी विशेषज्ञों की कमी है. आज अर्थशास्‍त्र और गणित का प्रभाव बहुत है, कभी पत्रों के लिए 1 हजार करोड़ वार्षिक का विज्ञापन आदि का व्‍यवसाय होता था, किंतु आज हजारों करोड़ रुपये का व्‍यवसाय होने लगा है, साहित्‍य और विशेषकर हिन्‍दी साहित्‍य की स्थिति दयनीय है. आज भी पत्रों में अंग्रेजी का प्रभाव ज्‍याद है, तकनीक का प्रभाव अंग्रेजी से अलग नहीं होने देता. उत्‍तर प्रदेश के अमर उजाला और दिल्‍ली के हिन्‍दुस्‍तान से लंबे समय तक जुड़े श्री सुबोध अग्निहोत्री ने यह कह कर अपने वक्‍तव्‍य को खत्‍म किया कि आज पत्रकारिता या किसी भी क्षेत्र में कुछ कर गुजरने के लिए जुनून होना आवश्‍यक है, आपको अच्‍छे से बहुत अच्‍छा करने के लिए  जुनून पैदा करना होगा.

श्रीफल व शॉल उढ़ा कर श्री मयूख को सम्‍मानित करते अतिथि बायें से डा. उषा झा, डा. 
अतुल चतुर्वेदी, डा. औंकारनाथ चतुर्वेदी, श्री मयूख, श्री कैलाशचंद्र सर्राफ, डा. संतोष नागर 
आखिर में कोटा के रत्‍न, मुस्लिम सम्प्रदाय से सम्‍बंधित होने के बावजूद उनकी जीवन में गीता, वेद पुराणों के प्रभाव को प्रत्‍यक्ष देखा जा सकता है, उन्‍होंने शहर में अपने उपनामकरण से एक शिव मंदिर का निर्माण करवाया ‘मयूखेश्‍वर महादेव’ और आज भी नित्‍य वहाँ जाना उनकी दैनिंदिनी का एक क्रम है, कम शिक्षित होने के बाद भी वेदों की ऋचाओं का अनुवाद कर ख्‍याति प्राप्‍त की, ओमान (मस्‍कट) में जिन्‍होंने वेदों की ऋचाओं का कुरान पर प्रभाव पर अपना वाचन करने के लिए बुलाया गया. उनकी एक कविता ''एक बच्‍चे की हँसी'' विदेशी पाठ्यक्रमों में अनुवाद के साथ पढ़ाई जाती है. आप राजस्‍थान में विशेष कर हाड़ौती संभाग के पहले साहित्‍यकार है जिनको उनके साहित्यिक अवदान पर के. के. बिड़ला का बिहारी सम्मान मिला. ऐेसे ही अनेकों सम्‍माानों से नवाजें गये सदी के अंतिम दशक में यात्रा कर रहे स्‍वस्‍थ श्री मयूख को पहला 'पं0 लज्‍जाराम मेहता स्‍मृति सम्‍मान' समारोह के अध्‍यक्ष श्री कैलाश चंद्र सर्राफ ने शॉल उढ़ा कर किया, श्री औंकारनाथ चतुर्वेदी ने उन्‍हें श्रीफल भेंट किया. साथ ही सभी अतिथियों ने इस समरोह की 'स्‍मारिका' भी लोकार्पित की. श्री मयूख के जीवन चरित्र पर उनके साथ लगभग पाँच वर्षों तक पुत्रवत उनके साथ रह कर साहित्यिक भ्रमण कर चुके कोटा के साहित्‍यकार श्री रामेश्‍वर शर्मा ‘रम्‍मू भैया’ ने उनके जीवन के साहित्यिक अनछुए पहलुओं, उनकी साहित्यिक उपलब्धियों और सम्‍मानों व अपनी साहित्यिक यात्राअें के संस्‍मरणों को बेहद रोचक तरीके से प्रस्‍तुत किया.
कार्यक्रम में खचाखच भरे सभागार में शहर के सभी प्रख्‍यात साहित्‍यकारों की उपस्थित गौरवमयी रही. ख्‍यात नाम साहित्‍यकार श्री नंदन चतुर्वेदी, श्री महेंद्र नेह, श्री हितेष व्‍यास, श्री शकूर अनवर, श्री ओम नागर, चाँद शेरी, रामेश्‍वर शर्मा 'रम्‍मू भैया', आकुल, श्री नरेंद्र चक्रवर्ती एवं अन्‍य साहित्‍यकारों के साथ-साथ राजकीय महाविद्यालय, जे.डी.बी. महाविद्यालय के प्राध्‍यापकों, एवं शहर के गणमान्‍य नागरिकों के मध्‍य समारोह पूर्ण गरिमा के साथ सम्‍पन्‍न हुआ. अंत में फोटो सेशन के बाद अल्‍पाहार के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ.  

समारोह की स्‍मारिका लोकार्पित करते अतिथि बायें से डा. अतुल चतुर्वेदी, डा. औंकारनाथ चतुर्वेदी, श्री मयूख, श्री कैलाशचंद्र सर्राफ
डा. संतोष नागर एवं डा. सुबोध अग्निहोत्रि 
प्रस्‍तुति- डा. 'आकुल'                 

मंगलवार, 8 नवंबर 2016